Saturday, August 5, 2017

"कोई पत्थर से ना मारे ,मेरे राहुल जी को"!! - पीताम्बर दत्त शर्मा (लेखक-विश्लेषक)

मुसलमानों में पत्थर मारना एक धार्मिक प्रक्रिया है , हिन्दुओं में इसे घृणात्मक दृष्टि से देखा जाता है ! मुस्लिम मानते हैं कि " शैतान" है ,इसलिए उसे पत्थर मार मार कर मार दो ! हिन्दुओं में कहते हैं कि जो पत्थर मार रहा है ,उसके अंदर शैतान घर कर गया है !हमारे फिल्म जगत में भी पत्थर बाज़ी को उपयुक्त स्थान दिया जाता है !"रोटी"फिल्म में एक रोटी-चोर महिला को एक गाँव वाले पत्थर मारते हैं तो उस फिल्म के हीरो साहिब श्रीमान राजेश खन्ना आकर उसे बचते हैं !वो किशोर कुमार जी की आवाज़ में गाते हुए कहते हैं कि इसे पत्थर वो मारे जिसने कोई पाप ना किया हो ,जो पापी ना हो !वहीँ लैला-मजनूं नामक फिल्म में लैला बनीं रंजीता जी ने भीड़ से गुहार लगायी कि "मेहरबानों ! अल्लाह के लिए मेरे दीवाने को कोई पत्थर से ना मारे !"मोब-लिंचिंग" ना करे !
                              कल राहुल  गुजरात गए राजस्थान गए !बाढ़-पीड़ितों से बोले कि "भाइयो-बहनों ! हमारी कहीं पर सरकार नहीं है ,इसलिए हम आपको कुछ नहीं दे सकते !न सरकारी धन से और नाही घोटालों में से "! तो मित्रो आप ही बताइये कि  नेता को क्या रसगुल्ले खिलाये ?जो उनके विधायक थे उनको तो पकड़ क्र कर्नाटक के होटल में ले गए ! वो तो अपने कोटे में से मदद  कर सकते थे !उन्हें तो भेजा नहीं और स्वयं आ गए अपनी फोटो खिंचवाने को ! तो जनता ने विरोध कर दिया !जिसे कांग्रेस प्रवक्ताओं ने और उनके मातहत पत्रकारों चेनेल एंकरों ने और ज्यादा बढ़ा-चढ़ा कर बता दिया ! यही राजनीति का कमाल है जी ! आम आदमी जुटे पड़ने की घटना को जहां छुपाता है,वहीँ राजनीती में ऐसी दुखद घटनाओं का प्रचार कर सिम्पथी पायी जाती है !लेकिन कोंग्रेसियों को वो भी नहीं मिलती नज़र आ रही !
                   विपक्ष के नेताओं और भाजपा के चंद नेताओं को छोड़ कर बाकि सभी की "चुंबकीय-शक्ति"समाप्त होती जा रही है !आकर्षण समाप्त हो रहा है !जो सिर्फ "मौन-व्रत"करने से ही वापिस आ सकती है ! लेकिन नेताओं को चुप कौन कराये ???इस लिए भुगतो !! आप भी और हम भी !! इन बेकार हो चुके नेताओं को !
                        


प्रिय "5TH पिल्लर करप्शन किल्लर"नामक ब्लॉग के पाठक मित्रो !सादर प्यारभरा नमस्कार ! वो ब्लॉग जिसे आप रोजाना पढना,शेयर करना और कोमेंट करना चाहेंगे !
link -www.pitamberduttsharma.blogspot.com मोबाईल न. + 9414657511.
इंटरनेट कोड में ये है लिंक :- https://t.co/iCtIR8iZMX.
मेरा इ मेल ये है -: "pitamberdutt.sharma@gmail.com.

No comments:

Post a Comment

"मीडिया"जो आजकल अपनी बुद्धि से नहीं चलता ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

किसी ज़माने में पत्रकारों को "ब्राह्मण"का दर्ज़ा दिया जाता था और उनके कार्य को "ब्रह्मणत्व"का ! क्योंकि इनके कार्य समाज,द...