Posts

Showing posts from June, 2016

कश्मीर में गिलानी-यासिन से बाद की पीढ़ी का आतंक

Image
श्रीनगर से 3 से 6 घंटे की दूरी पर कूपवाडा का केरन, तंगधार,नौ गाम और  मच्चछल ऐसे क्षेत्र है जहा से लगातार घुसपैठ होती है । पहली ऐसी घुसपैठ बांदीपुरा के गुरेज सेक्टर से होती थी । लेकिन सेना ने वहा चौकसी बढाई को घुसपैठ बंद हो गई । तो यह सवाल हर जहन में आ सकता है कि सेना चाहे तो ठीक उसी तरह इन इलाको में घुसपैठ रोक सकती है । लेकिन पहली बार वादी में सवाल सीमापार से घुसपैठ से कही आगे देश के भीतर पनपते उस गुस्से का हो चला है जिसकी थाह कोई ले नहीं रहा । और जिसका लाभ आंतकवादी उठाने से नहीं चूक रहे । क्योकि जिस तरह कूपवाडा में मारा गया आतंकवादी समीर अहमद वानी के जनाजे में शामिल होने के लिये ट्रको में सवार होकर युवाओ क् जत्थे दर जत्थे सोपोर जा रहे है । उसने यह नया सवाल खड़ा कर दिया है कि क्या आंतक की परिभाषा कश्मीर में बदल रही है या फिर आतंक का सामाजिकरण हो गया है । क्योंकि नई पीढी को इस बात का खौफ नहीं कि मारा गया समीर आंतकवादी था और वह उसके जनाजे में शामिल होंगे तो उनपर भी आतंकी होने का ठप्पा लग सकता है । बल्कि ऐसे युवाओं को लगने लगा है कि उनके साथ न्याय नहीं हो रहा है । और हक के लिये हिंसा को …

"धूर्तों का नार्को टेस्ट करा दो न्यायाधीश जी" !! पीतांबर दत्त शर्मा लेखक-विश्लेषक) मो.न. - +9414657511

Image
  पाठक मित्रो ! पिछले कुछ दिनों से मैं आपके साथ अपने विचार सांझे नहीं कर सका क्योंकि मेरी बेटी सुकृति शर्मा हेतु एक लड़का देखकर उसकी सगाई कर दी है !बस उसी में व्यस्त था ! 
                अब विषय पर आते हैं ! पिछले एक पखवाड़े में कई घटनाक्रम ऐसे हुए जो देखने में तो छोटे थे लेकिन उनमे "दुष्टता,धृष्टता,स्वार्थ,वैरभाव और देश के प्रति गद्दारी"कूट-कूट कर भरी हुई दिखाई दी !इसीलिए आज हम उन सभी छोटे लेकिन देश के लिए गम्भीर विषयों पर चर्चा करेंगे ! सबसे पहले मथुरा के "राम-वृक्ष यादव" की बात करते हैं !जितने जोरशोर से मीडिया ने इस मामले को उठाया उतनी ही जल्दी वो इस विषय को भूल भी गयी !आज कोई खबरनवीस इसपर बात ही नहीं करता दिखाई दे रहा क्यों??"जांच से  हमेशां "निकला"है वही तो इसमें निकलेगा ना !!
                        "उड़ता--पंजाब"जैसी फ़िल्में पता नहीं किस उद्देश्य से कौन किसके पैसों से बनाता आ रहा है , ये भी एक बड़ी जांच का विषय है !पिक्चर के प्रमोशन हेतु कितने "नीच"तरीके आजमाने में भी जब सलमान को शर्म नहीं आती तो भला दुसरों को  कैसे शर्म आये ?ये…

मेरे ट्वीट आपके लिए हाज़िर हैं !

Image
3m3 minutes ago दिल्ली में युवाओं के नशे के बारे में क्यों चिन्तित नहीं हैं ये केजरीवाल जैसे नकसली लोग !!?? 0 retweets0 likes