Posts

Showing posts from April, 2015

अब होगी एक और " सरल सनातन धर्म वेब- ग्रन्थ " की रचना !! - पीताम्बर दत्त शर्मा ( लेखक-विश्लेषक) मानव जाति को सच्चा रास्ता दिखाने हेतु समय समय पर पहले ऋषियों मुनियों ने फिर कई धर्म-गुरुओं ने कई ग्रन्थ लिखे हैं जिनमे सनातन-धर्म के बारे में विस्तार से बताया गया है !उनका अनुभव हमारे लिए रास्ता आसान करता है ! लेकिन पहले वाले धर्म-ग्रन्थ संस्कृत, फ़ारसी और अन्य कई भाषाओँ में लिखे गए थे ! जिनको पढ़ने हेतु ना तो आज के इन्सान के पास इतना भाषा-ज्ञान है और ना ही इतना समय ! लेकिन वो ईश्वर को प्राप्त तो करना चाहता है लेकिन जल्दी ! इसी बात का फायदा उठाकर इस कलयुग में कई स्वयंभू भगवान बन बैठे हैं ! वो आम जनता को भगवान की फोटो दिखाकर स्वयं को ही पुजवाते हैं ! इसीलिए मैंने ये सोचा है कि आप जैसे विद्वान मित्रों के सहयोग से एक वेबसाईट बनायीं जाए , जिसमे सनातन धर्म से सम्बंधित सभी मुख्य देवी-देवताओं की जन्म से लेकर देवलोक गमन तक की सच्ची गाथाएं और परमात्मा को पाने की प्रमाणिक विधियां लिखी हुई हों ! उसमे जीवन के आदर्शों और संस्कारों का भी पूर्ण विवरण हो ! सृष्टि की रचना और प्रलय के बारे में भी विस्तार से बताया गया हो ! आज जो धर्म ग्रन्थ हमारे पास उपलब्ध हैं वो केवल 40% ज्ञान ही उपलब्ध करवाते हैं ! इसलिए सन 2018 में एक यात्रा शुरू की जाएगी जो पुरे भारत में तो जायेगी ही ,आवश्यकता पड़ने पे अगर विदेश भी जाना पड़ेगा तो जाएंगे लेकिन धार्मिक जिज्ञासुओं हेतु सम्पूर्ण सामग्री उस वेबसाईट में उपलब्ध रहेगी आप सबके सहयोग से ! इस टीम मैं ऐसे विद्वान भी शामिल करने होंगे जो सनातन ग्रंथों के बारे में जानकारी रखते हैं ! उनके साथ कंप्यूटर टाइपिस्ट और ऑपरेटर भी जोड़े जाएंगे ! भारत के अलग-अलग हिस्सों में इस कार्य हेतु कार्यालय खोले जायेंगे !इनका कार्य होगा कि उपलब्ध सभी ग्रंथों का अध्ययन कर उनमे लिखे ज्ञान को क्रमबद्ध करके नयी वेब साइट पर डालना ! यात्रा का उद्देश्य ये होगा की नगर-नगर,गाँव-गाँव जाकर पूछना कि क्या आपके पास कोई पुराण ग्रन्थ , लिपि या कोई ऐतिहासिक मंदिर या स्थान है जिससे सनातन धर्म के किसी अंश का पता चल सके ! एक रथ बनाकर , उसमें सारे उद्देश्य अंकित करके,छोटी सी भजन-मण्डली का गठन करके भारत-भ्रमण किया जायेगा जो 2018 से उद्देश्य पूर्ति तक चलेगा ! ये अभी एक मोटा -मोटा खाका है ! इसमें आप सभी मित्रों के सुझाव शामिल करके इसे और प्रभावी बनाया जायेगा ! अब आप धर्म-प्रेमी मित्रों से निवेदन है कि आप इस पवित्र कार्य में कैसे कितनी और किस रूप में मदद कर सकते हैं , वो हमें जल्द से जल्द बताने का कष्ट करें ! ताकि ये बड़ी योजना समय पर शुरू की जा सके ! आपके पास जितना भी समय इस पवित्र कार्य हेतु हो हमें बताएं !मुझे पूर्ण विश्वास है कि प्रभु-प्रेरणा से आप सब मित्र हमारा इस पवित्र कार्य में सहयोग करेंगे ! मैं आपसे वडा हूँ की हमारी वेबसाईट में किसी को ना तो बुरा कहा जायेगा और नाही किसी तथ्य को तोडा-मरोड़ा जायेगा ! जो भी जानकारी हमें जिसकी लिखी जो भी जानकारी मिलेगी उसे उसी के नाम से वकबसईट में दर्शाया जायेगा ! हमें सिर्फ संकलन ही करना है ! अतः निष्काम भाव से आप हमारे साथ आइये ! इस पुण्य कार्य को करने हेतु ,हमारा पता नोट करें :- पीताम्बर दत्त शर्मा 1/120,आवासन मण्डल कालोनी, सूरतगढ़ ! पिन-कोड -335804, (जिला - श्रीगंगानगर), (राजस्थान - भारत) मो.न.-91-9414657511 ई-मेल आई डी :- pitamberdutt.sharma@gmail.com ब्लॉग - " फिफ्थ पिल्लर करप्शन किल्लर " "5TH PILLAR CORRUPTION KILLER" लिंक - www.pitamberduttsharma.blogspot.com. फेसबुक आई डी - www.facebook.com.pitamberdutt.sharma7 आप सबसे अनुरोध है कि आप इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि ये विषय सबको मालूम हो जाए !अपने अनमोल सुझाव भी हमारे ब्लॉग पर जाकर अवश्य लिखें ! "लो मित्रो !! वानप्रस्थाश्रम और आध्यात्म यात्रा की ओर जाने की तैयारी शुरू कर रहा हूँ "!!-पीताम्बर दत्त शर्मा ( लेखक-विश्लेषक) मेरे प्रिय पाठक मित्रो ! सादर नमस्कार ! कुशलता के आदान-प्रदान पश्चात समाचार ये है कि सन 2015 की 1 जनवरी से मैंने सभी प्रकार की राजनितिक-सामाजिक सक्रिय गतिविधियों को त्याग दिया है ! सभी प्रकार की बुरी आदतें 31 दिसंबर 2010 से ही छोड़ दी थीं !इसी के साथ भोजन भी एक समय कर दिया है !क्योंकि - जीवन के ऐसे मोड़ पर आ चुका हूँ, जहाँ ये सोचना आवश्यक हो गया है कि हमारा जन्म इस धरती पर किस उद्देश्य की पूर्ती हेतु हुआ है ?गृहस्थाश्रम की लगभग सभी जिम्मेदारियाँ पूरी होने को हैं !जो एक-आध बाकी है वो भगवान पूरी करवा ही देंगे !राजनितिक और समाजसेवी संगठनों के रंग, जो हमें हमारे जीवन में दिखे,वो मुझे अपने साथ ज्यादा कभी भी बाँध ही नहीं पाये !जब तक इनमे रहा भी, तो, मैं एक प्रकार की असहजता ही महसूस करता रहता था !इसलिए इनको छोड़ने में भी मुझे ज़रा सी भी दिक्कत महसूस नहीं हुई ! मित्रो !! अपने आगामी जीवन काल में, मैं आपके साथ मिलकर एक बड़ा ही नेक उद्देश्य पूरा करना चाहता हूँ ! मुझे पूर्ण विश्वास है की आप सबका साथ इस उद्देश्य को पूरा करने हेतु मुझे अवश्य मिलेगा ! मैं आज आपके साथ अपना वो उद्देश्य भी साँझा करना चाहता हूँ ! उद्देश्य ये है -: जीवन के अनुभव से मुझे ये ज्ञात हुआ है कि सनातन धर्म के ज्ञान से भरे ग्रंथों,स्थानों एवं अन्य बहुमूल्य वस्तुओं को पहले मुस्लिम लुटेरों और फिर अंग्रेजी शासकों ने खूब लूटा जलाया और अपने साथ भी ले गए ! आज जो हमारे पास ग्रन्थ बचे हैं , वो अधूरे और टूटी-फूटी कड़ियों वाले हैं ! जिनका फायदा उठाकर कई आडंबरी ठगों ने साधू बनकर या अपना धर्म बनाकर एक प्रकार की दुकानें खोल ली हैं ! कई नेता और फिल्म-नाटक निर्माता भी इसका फायदा उठाकर करोड़ों कमा चुके हैं ! ठगे हमारे भोले सनातन-धर्मी लोग ही जाते हैं !आज हमें किसी देवता की पूरी जानकारी एक जगह नहीं मिलती और नाही सनातन-धर्म के अनुसार परमात्मा को पाने की विधियाँ प्रमाणित रूप से एक जगह मिलती हैं !समय का अभाव मनुष्य को रहता ही है ! किसी के पास समय नहीं है जिस से वो सारे ग्रन्थ पढ़ कर स्वयं निर्णय ले सके कि उसे किधर जाना है ?! इन्हीं बातों से प्रेरित होकर मैंने ये निर्णय लिया है कि मैं फेसबुक,गूगल+,ब्लॉग और ग्रुप्स की मदद से , आप सब दोस्तों के ज्ञान का फायदा उठाकर , एक टीम का गठन करूँ और फिर गाँव-गाँव, शहर-शहर और पूरे भारत में भ्रमण करके , आप सभी मित्रों से मिलकर आपकी मदद से वो,ऐतिहासिक जानकारियां एकत्रित करूँ, जो हमारे धर्म-ग्रंथों में वर्णित नहीं हैं ! और फिर विद्वानों के माध्यम से नयी व पुरानी जानकारियां मिलाकर इंटरनेट पर नए सिरे से सभी देवताओं की जीवनियाँ , उनके उपदेश आदि एक जगह पर डाल दें ! ताकि भविष्य में ना तो कोई भ्रमित हो सके , और नाही कोई किसी को भ्रमित कर सके !जिसको किसी देवता की जानकारी चाहिए होगी , वो उसे एक क्लिक करने पर मिल जाएगी और जिसको परमात्मा पाने की सनातन-धर्म की विधियां जाननी होंगी वो भी उसे एक ही क्लिक करने पर उपलब्ध हो जाएंगी ! इस पवित्र कार्य को पूरा करने हेतु इसकी शुरुआत 1 नवम्बर 2015 को सूरतगढ़ राजस्थान से करने की इच्छा है ! इस भारत-भ्रमण यात्रा में एक वैन में इंटरनेट के साथ प्रिंटर-कंप्यूटर लगे होंगे , एक वैन में साउंड-टेन्ट और रसोई की व्यवस्था होगी !जिस गाँव-शहर में जाएंगे वहाँ थोड़ा सत्संग करेंगे,अपना आने का उद्देश्य बताएँगे और वहाँ के लोगों से जानकारी लेंगे कि क्या उनके पास कोई धार्मिक पुरानी किताब है ? क्या उनके यहां कोई पुरातन धार्मिक स्थान है ?जहां ये सब होगा वहाँ जरूरत के मुताबिक रुकेंगे और जहां ऐसा कुछ नहीं होगा वहाँ सत्संग करके आगे बढ़ जाएंगे ! ये है मोटा-मोटा हमारा प्लान ! अब आप इस कार्यक्रम में अपनी बुद्धि से और चार-चाँद लगाइये ! और जो मित्र इसमें अपना जो सहयोग जैसा भी , देना चाहे , वो भी हमें सूचित करें !हमारा नाम और पता सब विस्तार से नीचे लिखा है ! " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " नामक ब्लॉग ( समाचार-पत्र ) के पाठक मित्रों से एक विनम्र निवेदन - - - !! आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग ( समाचार-पत्र ) पर, जिसका नाम है - " 5TH PILLAR CORRUPTIONKILLER " कृपया इसे एक समाचार-पत्र की तरह ही पढ़ें - देखें और अपने सभी मित्रों को भी शेयर करें ! इसमें मेरे लेखों के इलावा मेरे प्रिय लेखक मित्रों के लेख भी प्रकाशित किये जाते हैं ! जो बड़े ही ज्ञान वर्धक और ज्वलंत - विषयों पर आधारित होते हैं ! इसमें चित्र भी ऐसे होते हैं जो आपको बेहद पसंद आएंगे ! इसमें सभी प्रकार के विषयों को शामिल किया जाता है जैसे - शेयरों-शायरी , मनोरंजक घटनाएँ आदि-आदि !! इसका लिंक ये है -www.pitamberduttsharma.blogspot.com.,ये समाचार पत्र आपको टविटर , गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी मिल जाएगा ! ! अतः ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर इसे सब पढ़ें !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7. मेरा ई मेल पता ये है -: pitamberdutt.sharma@gmail.com. जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें सधन्यवाद !! आपका प्रिय मित्र, पीताम्बर दत्त शर्मा, हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार, R.C.P. रोड, सूरतगढ़ ! जिला-श्री गंगानगर। मोबाईल नंबर-09414657511 " आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!! BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh. (raj)INDIA.

Image
अब होगी एक और " सरल सनातन धर्म वेब- ग्रन्थ " की रचना !! - पीताम्बर दत्त शर्मा ( लेखक-विश्लेषक)
मानव जाति को सच्चा रास्ता दिखाने हेतु समय समय पर पहले ऋषियों मुनियों ने फिर कई धर्म-गुरुओं ने कई ग्रन्थ लिखे हैं जिनमे सनातन-धर्म के बारे में विस्तार से बताया गया है !उनका अनुभव हमारे लिए रास्ता आसान करता है ! लेकिन पहले वाले धर्म-ग्रन्थ संस्कृत, फ़ारसी और अन्य कई भाषाओँ में लिखे गए थे ! जिनको पढ़ने हेतु ना तो आज के इन्सान के पास इतना भाषा-ज्ञान है और ना ही इतना समय ! लेकिन वो ईश्वर को प्राप्त तो करना चाहता है लेकिन जल्दी ! इसी बात का फायदा उठाकर इस कलयुग में कई स्वयंभू भगवान बन बैठे हैं ! वो आम जनता को भगवान की फोटो दिखाकर स्वयं को ही पुजवाते हैं !
इसीलिए मैंने ये सोचा है कि आप जैसे विद्वान मित्रों के सहयोग से एक वेबसाईट बनायीं जाए , जिसमे सनातन धर्म से सम्बंधित सभी मुख्य देवी-देवताओं की जन्म से लेकर देवलोक गमन तक की सच्ची गाथाएं और परमात्मा को पाने की प्रमाणिक विधियां लिखी हुई हों ! उसमे जीवन के आदर्शों और संस्कारों का भी पूर्ण विवरण हो ! सृष्टि की रचना और प्रलय के बारे में भी विस्त…

अब होगी एक और " सरल सनातन धर्म वेब- ग्रन्थ " की रचना !! - पीताम्बर दत्त शर्मा ( लेखक-विश्लेषक)

Image
मानव जाति को सच्चा रास्ता दिखाने हेतु समय समय पर पहले ऋषियों मुनियों ने फिर कई धर्म-गुरुओं ने कई ग्रन्थ लिखे हैं जिनमे सनातन-धर्म के बारे में विस्तार से बताया गया है !उनका अनुभव हमारे लिए रास्ता आसान करता है ! लेकिन पहले वाले धर्म-ग्रन्थ संस्कृत, फ़ारसी और अन्य कई भाषाओँ में लिखे गए थे ! जिनको पढ़ने हेतु ना तो आज के इन्सान के पास इतना भाषा-ज्ञान है और ना ही इतना समय ! लेकिन वो ईश्वर को प्राप्त तो करना चाहता है लेकिन जल्दी ! इसी बात का फायदा उठाकर इस कलयुग में कई स्वयंभू भगवान बन बैठे हैं ! वो आम जनता को भगवान की फोटो दिखाकर स्वयं को ही पुजवाते हैं !
                                 इसीलिए मैंने ये सोचा है कि आप जैसे विद्वान मित्रों के सहयोग से एक वेबसाईट बनायीं जाए , जिसमे सनातन धर्म से सम्बंधित सभी मुख्य देवी-देवताओं की जन्म से लेकर देवलोक गमन तक की सच्ची गाथाएं और परमात्मा को पाने की प्रमाणिक विधियां लिखी हुई हों ! उसमे जीवन के आदर्शों और संस्कारों का भी पूर्ण विवरण हो ! सृष्टि की रचना और प्रलय के बारे में भी विस्तार से बताया गया हो ! 
                      आज जो धर्म ग्रन्थ हमारे पास उ…

"रोज़ तरह-तरह के भूकम्पों से अच्छा है भगवन , आप हमें अपनी प्रलय ही दिखा दो " !!??-पीताम्बर दत्त शर्मा ( लेखक-विश्लेषक)

Image
कितने बरस हो गए ! हर रोज़ कई समाचार ऐसे पढ़ने-देखने और सुनने में आते हैं जो किसी भूकम्प से कम नहीं होते जी ! रोज़ाना अपने घर में स्थित मन्दिर में पूजन करते वक्त ये मंत्र भी पढ़ते हैं कि " सर्वे भवन्तु सुखिना,सर्वे सन्तु निरामया:!सर्वे भद्राणि पश्यन्तु ,माँ कश्चिद् दुःख भाग्भवेत !! लेकिन भगवान है कि  सुनता ही नहीं ?? जितने भी गुंडे बदमाश हैं वो इस कलयुग में ऐश कर रहे हैं और जितने सज्जन लोग हैं वो तरह - तरह के कष्टों से रोज़ाना दो-चार हो रहे हैं !
                       भगवान श्री कृष्ण ने गीता में स्वयं कहा भी है कि हे मनुष्य जब-जब धर्म की हानी होगी तब-तब मैं स्वयं उसे " ऊंचा "उठाने हेतु अवतार लूँगा ! बस जी हम कृष्णा की इसी बात को सच माने बैठे हैं ! इसी भरोसे के चलते हम किसी नेता-अफसर को कुछ भी नहीं समझते हैं ! खुद को बड़ा बताते हुए रोज़ ही किसी ना किसी से उलझ जाते हैं ! कभी वो दर जाते हैं और कभी हम ! लेकिन अंदर की बात ये है कि ये जो कृष्णा है ना ये अपनी गोपियों सखाओं को भी बहुत सताता था और आज इतने वर्षों बाद हमें भी सता ही रहा है !
                               हमारे कष्…

" सपने टूटने लगे हैं आप से "......???               आंदोलन की रोशनी सियासी अंधेरे में कैसे बदल गई ?????

Image
अगर पत्रकार रहते हुये आशीष खेतान कारपोरेट घरानों के प्यादे बनने से नहीं कतरा रहे थे। अगर पंकज गुप्ता हर हाल में पार्टी फंड बढ़ाने के लिये हर रास्ते को अपनाने के लिये तैयार थे। अगर कुमार विश्वास कभी भाजपा तो कभी कांग्रेस के बीच झूलते हुये केजरीवाल को नजर आ रहे थे। अगर सत्ता की मद में राखी बिडला के सरोकार अपने परिवार तक से नहीं बचे हैं। अगर योगेन्द्र यादव हर हाल में अपने समाजवादी चिंतन तले समाजवादी कार्यकर्ताओं को संगठन के अहम पदों पर बैठाने के लिये बैचेन थे। अगर प्रशांत भूषण पार्टी के भीतर अपनी डोलती सत्ता को लेकर बैचेन थे। अगर शांति भूषण के सपनो की आम आदमी पार्टी उनके वैचारिकी के साथ खड़ी नहीं हो पा रही थी। अगर पार्टी के भीतर अहम पदो से लेकर अहम निर्णयों पर रस्साकसी जारी थी। बावजूद इसके दिल्ली चुनाव तक किसी ने किसी का मुखौटा नहीं उतारा और सत्ता मिलते ही अपनी पंसद के मुखौटों को अपने पास रखकर हर किसी ने हर चेहरे से मुखौटा उतारना शुरु कर दिया तो फिर आम आदमी पार्टी का चेहरा बचेगा कहां से । और जो आम आदमी वाकई बचा है उसके जहन में तो यह सवाल आयेगा ही कि जब राजनीतिक सत्ता से मोहभंग के हालात म…

राजनीती आज तक ना जाने कितने " गजेन्द्र सिंह "जैसों को " मौत के मुंह " में पहुंचा चुकी है ?- पीताम्बर दत्त शर्मा ( लेखक-विश्लेषक)

Image
पाठक मित्रों ! कल जो दिल्ली के जंतर-मंतर पर देखते-देखते हुआ,सच में,वो सबको झकझोर गया !सिक्के का एक पहलु तो वो है जिसे देश का सारा मीडिया और नेतागण बताएँगे और फिर उस पर " मगरमच्छ वाले आंसू " भी बहायेंगे ! लेकिन मैं आपके समक्ष सिक्के का दूसरा पहलू रखना चाहता हूँ ! ये उन  सब लोगों को अटपटा लगेगा जो केवल सरकारी योजनाओं के मुताबिक जीते हैं, चलते हैं, रहते हैं और भविष्य में भी सरकारी अनुदान पर ही निर्भर रहना चाहते हैं !
              हमने अपने बाल्यकाल में ये पढ़ा था कि किसान बुलंद हौसले वाला होता है !स्वयं वो चाहे जैसे भी रहे लेकिन दूसरों को जीने हेतु अन्न उपलब्ध करता है ! स्वार्थ उसके पास भी नहीं फटकता है !वो धरती को अपनी माँ और स्वयं को उसका सेवादार बालक मानता है !जो भी फसल उसके खेत में होती है उस से वो प्रसन्न हो जाता है ! वो कड़ी मेहनत और मौसम के ऊपर निर्भर होता है !वो साधारण जीवन व्यतीत करता है ! धन के पीछे वो हरगिज़ नहीं भागता ! इसीलिए सभी भारतीय,किसान के प्रति अपने मन में एक विशेष प्रकार का स्नेह और आदर का भाव रखते हैं ! उसको कोई भी कष्ट होता है तो सब उसकी सहायता करने को आग…

" राहुल बाबा और उनके 40 नहीं 45 सांसदों की लीला "??- पीताम्बर दत्त शर्मा (लेखक-विश्लेषक)

Image
पहले रामलीला मैदान में और फिर कल संसद में हमने राहुल बाबा की वो लीला देखी , जिसकी तैयारी वो 59 दिनों तक अज्ञातवास में करके आये थे ! उनसे ज्यादा उनके युवा साँसद जोश में भरे नज़र आ रहे थे ! 20 मिनट के भाषण में आधी से ज्यादा बातें उन्होंने दोहराईं और बहुत बार अटके एवं भूले भी ! इस सबके बावजूद माता सोनिया बलाएं ले-लेकर  प्रसन्न हो रहीं थीं ! टीवी चेनेल वाले भक्तजन भी गहन खोजबीन करके दो पॉइंट्स से ज्यादा नहीं निकाल पाये उनके भाषण से !
                एक पॉइंट्स ये था कि ये सूट-बूट वाली सरकार गरीबों का दुःख नहीं समझ पायी और दूसरा ये कि किसानों की ज़मीन लेना ही क्यों आवश्यक है ! पहले प्रश्न के उत्तर में सरकार अपना उत्तर देगी जो देगी , लेकिन मेरा ये मानना है कि राहुल बाबा स्वयं , उनके खानदान में शायद ही कोई ऐसा हो जो सूट-बूट ना पहनता हो ! और जितने भी सेठों की तरफ उनका इशारा था वो सब टाटा-बिड़ला-बाटा-अम्बानी और अडानी  आदि सब कांग्रेस राज में ही फले-फूले थे ! उनकी पार्टी  लोगों ने भरपूर चंदा दिया है ! और जहां तक किसानों की ज़मीन अधिग्रहण करने की बात है तो पाठक मित्रो ! अभी तलक तो मोदी सरकार ने ए…

" दुश्मनो के हाथों में खेलते ये पैसे के पीर "!! फिल्मों-सीरियलों और विज्ञापनों के निर्माता !!

Image
अपसंस्कृति फैलाते टी वी धारावाहिक और रियलिटी शोज़ इन दिनों टी वी पर अनेकों चैनल्स चल रहे हैं और हर चैनल पर अनेकों धारावाहिक, रीयलिटी शोज़ और कॉमेडी सीरियल्स चल रहे हैं जो मनोरंजन के नाम पर निम्न स्तरीय भाषा, अश्लील और फूहड़ हास्य तथा घटिया विचारों के वाहक बन अपसंस्कृति को परोसने में संलग्न हैं ! आश्चर्य इस बात का है कि इस तरह के स्तरहीन कार्यक्रमों के प्रसारण के लिए हरी झंडी कौन दिखाता है जबकि यह सर्वमान्य सत्य है कि भारतीय समाज में एक टी वी ही पारिवारिक मनोरंजन का इकलौता माध्यम है और परिवार में हर उम्र के सदस्य होते हैं जो प्राय: ऐसे कार्यक्रमों के प्रसारण के समय एक साथ एक कमरे में बैठने पर असहज महसूस करने लगते हैं !


टी वी धारावाहिकों की भाषा बहुत ही आपत्तिजनक होती जा रही है ! यथार्थ के नाम पर आजकल संवादों में हर तरह की गालियों का जी भर कर प्रयोग किया जाता है ! आजकल कलर्स पर एक धारावाहिक चल रहा है जिसमें दो स्त्रियाँ जातिसूचक संबोधनों के साथ चीख-चीख कर एक दूसरे को खूब जली कटी सुनाती हैं ! आरम्भ होने से पहले ही इस धारावाहिक के विज्ञापन में कई दिनों तक इन्हीं संवादों को इतना दोहराया गय…