Posts

Showing posts from November, 2014

"सूरतगढ़ रा,स्वामी मनोज कुमार, " कियाँ...!! " - बनया कहानीकार"???-पीताम्बर दत्त शर्मा (लेखक-विश्लेषक)

Image
आज हमारे सूरतगढ़ शहर के लिए बड़े ही सौभाग्य और हर्ष का दिन था ! क्योंकि यहां के मशहूर राजस्थानी भाषा के लेखक श्री मान मनोज कुमार स्वामी जी के नए कहानी संग्रह " कियाँ....!!" का विमोचन कार्यक्रम हुआ ! लेखन से और राजस्थानी भाषा के कई साहित्यिक हस्तियों और साहित्य-प्रेमियों के दर्शन करने का सुअवसर प्राप्त हुआ !
         राजस्थानी भाषा प्रचार समिति द्वारा आयोजित इस सुन्दर -सजीले कार्यक्रम का मंच सञ्चालन सूरतगढ़ के विद्वान शिक्षाविद और पत्रकार श्री मान महेंद्र सिंह शेखावत जी ने किया !  कार्यक्रम के मुख्य वक्त सर्व श्री मालचन्द जी तिवारी , प्रमोद जी शर्मा , डा.सत्यनारायण जी स्वामी और राजस्थान के पूर्व मंत्री राम प्रताप कासनिया जी रहे !जिनके विचारों को सुनकर , ज्ञात हुआ कि हमें क्यों लिखना चाहिए और हमें क्यों लेखकों की रचनाओं को पढ़ना चाहिए ??माता सरस्वती का सच्चे मन से पूजन भी हुआ ! कहानी संग्रह " कियां....???" की विभिन्न रचनाओं के विषयवस्तु के बारे में विस्तार से बताया गया ! जो बहुत बढ़िया था , इस कहानी संग्रह को आप सब भी खरीद कर अवश्य पढ़िए !
         इस कार्यक्रम में दो विशेष …

क्या 16 मई के बाद मीडिया बदल गया?-साभार - श्री पुण्य प्रसुन वाजपेयी

Image
16 मई 2014 की तारीख के बाद क्या भारतीय मीडिया पूंजी और खौफ तले दफ्न हो गया। यह सवाल सीधा है लेकिन इसका जवाब किश्तों में है। मसलन कांग्रेस की एकाकी सत्ता के तीस बरस बाद जैसे ही नरेन्द्र मोदी की एकाकी सत्ता जनादेश से निकली वैसे ही मीडिया हतप्रभ हो गया। क्योंकि तीस बरस के दौर में दिल्ली में सडा गला लोकतंत्र था। जो वोट पाने के बाद सत्ता में बने रहने के लिये बिना रीढ़ के होने और दिखने को ही सफल करार देता था। इस लोकतंत्र ने किसी को आरक्षण की सुविधा दिया। इस लोकतंत्र ने किसी में हिन्दुत्व का राग जगाया । इस लोकतंत्र में कोई तबका सत्ता का पसंदीदा हो गया तो किसी ने पसंदीदा तबके की आजादी पर ही सवालिया निशान लगाया। इसी लोकतंत्र ने कारपोरेट को लूट के हर हथियार दे दिये। इसी लोकतंत्र ने मीडिया को भी दलाल बना दिया। पूंजी और मुनाफा इसी लोकतंत्र की सबसे पसंदीदा तालिम हो गयी। इसी लोकतंत्र में पीने के पानी से लेकर पढ़ाई और इलाज से लेकर नौकरी तक से जनता द्वारा चुनी हुई सरकारों ने पल्ला झाड़ लिया। इसी लोकतंत्र ने नागरिकों को नागरिक से उपभोक्ता बने तबके के सामने गुलाम बना दिया।

इस लोकतंत्र पर पत्रकारों की क…

"दा होल थिंग इज़ दैट , के भैया-सबसे बड़ा रुपैया "-पीताम्बर दत्त शर्मा (लेखक-विश्लेषक)

Image
हमारे बॉलीवुड के मशहूर कॉमेडियन ज़नाब महमूद साहिब एक अदद एक्टर होने के साथ-साथ वे उम्दा गायक,प्रड्यूसर,लेखक और डायरेक्टर भी थे ! उन्होंने 4-5 फिल्मों का निर्माण किया था ! जिनमे पड़ोसन,कुंआरा-बाप और सबसे बड़ा रुपैया प्रमुख हैं जो काफी सफल रहीं थीं ! जनता को एक सन्देश भी देती थीं उनकी फिल्मे !उसी " सबसे बड़ा रुपैया " फिल्म का एक गाना बड़ा ही मशहूर हुआ था , जो इतना समय बीत जाने पर आज भी उसके बोल खरे साबित हो रहे हैं ! इसीलिए उसी गीत को मैंने अपनी बात कहने हेतु आज का शीर्षक बनाया है !
           " ना बीवी ना बच्चा , ना बाप बड़ा ना भैया ,"दा होल थिंग इज़ दैट , के भैया-सबसे बड़ा रुपैया "!!भाजपा के नेता जिस जीत पर अपनी पीठ थपथपा रहे हैं दरअसल में ये जीत किसी की नोटों की बड़ी सारी थैली खुली है तब ये सेहरा भाजपा के सर पर बंधा है ! अन्यथा नए चुने गए चेहरों में से, भाजपा कीं कई निष्ठावान और सेवा-भावी महिलाएं जीतकर आयीं थीं !
            भाजपा संगठन के नेता भी आम जनता के साथ खड़े नज़र आये !पता नहीं वो वहाँ क्या करने आये थे ! यहां तलक की भाजपा के जिलाध्यक्ष भी कोई " भूमिका " …

"5th पिल्लर करप्शन किल्लर " के सर्वे ने मचाई धूम "!! 35 पार्षदों में से 23 जीते ! चेयरमैन-वाइस चेयरमैन भी इसी सर्वे लिस्ट में से बनेंगे !

Image
सूरतगढ़ में संपन्न हुए नगरपालिका चुनावों के लिए 15 अगस्त 2014 से 2 अक्टूबर 2014 तक एक सर्वे , इंटरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रैस -"5th पिल्लर करप्शन किल्लर " की सूरतगढ़ टीम द्वारा किया गया था ! जो कम्पनी के आदेश मुताबिक चुनावों से बहुत पहले करना था!ये हमारे लिए एक बहुत बड़ा चेलेंज भी था ,सख्त मेहनत के इलावा !! जो लोग सर्वे के महत्त्व को अभी तक नहीं समझते थे, वे चंद लोग इस सर्वे पर कई तरह के प्रश्न उठा रहे थे !शायद किसी जलन की वजह से वो ऐसा कर रहे थे!हमारे अनुभवी मित्रों द्वारा ये सर्वे तीन स्तरों पर किया गया था ! पहला स्तर पत्यक्ष टीम द्वारा , दूसरा स्तर गुप्त टीम द्वारा और तीसरा स्तर जनता के अनुमान द्वारा ! 
          हमारे सर्वे के मुख्य बिंदु निम्नलिखित हैं -:
  1. हमारे सर्वे मैं कुल 156 नाम घोषित किये गए थे!जो संभावित उम्मीदवारों के थे !
  2. जिनमे से 110 लोगों ने चुनाव लड़ने हेतु पर्चे दाखिल किये !
   3. 85 महिलाओं और पुरषों ने चुनाव लड़ा !
   4.इन में से 43 लोगों को कांग्रेस,भाजपा,जमींदारा और बी.एस.पी.ने अपना उम्मीदवार बनाकर टिकेट दिया !
   5.हमारे सर्वे में घोषित नामों में से 23…

"भाजपा की राजस्थान में बल्ले-बल्ले तो हो रही है , लेकिन क्या "शाह" जी देखेंगे कि ये जीत किस वजह से मिली है ?(पीताम्बर दत्त शर्मा-लेखक-विश्लेषक)

Image
मित्रो !! भारत के पुरातन ग्रन्थ बताते हैं कि  राक्षसों का पूरे ब्रह्माण्ड पर भी कब्ज़ा हो जाया करता था ! फिर देवता अपना दुःख कभी ब्रह्मा जी को तो कभी विष्णु जी को और कभी भोले बाबा जी को सुनाया करते थे !तब इन तीन देवताओं की कृपा से ही मुसीबतों से छुटकारा पाया जाता था !
            वैसे ही हमारे मोदी जी ने देश की जनता से ये आह्वान किया है कि देश को " कांग्रेस " मुक्त बनाओ !! तभी से भारत की जनता सभी चुनावों में जितना हो सकता है उतना देश को कांग्रेस -मुक्त कर रही है ! राजस्थान में निकाय चुनाव संपन्न हो रहे हैं ! क्या जयपुर,क्या जोधपुर,यहाँ तलक कि बीकानेर,उदयपुर,हनुमानगढ़,सूरतगढ़,आदि सभी शहरों में भाजपा की बल्ले-बल्ले हो रही है !कुछ ही जगहों पर वो बहुमत से थोड़ी दूर रही है !!
          अगले दो दिनों में थोड़े प्रयासों से ही सब जगह भाजपा के चेयरमैन बन जायेंगे ! जिसका श्रेय कार्यकर्ताओं,विधायकों,प्रभारियों,और मंत्रियों से होता हुआ मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे जी तक पंहुच ही जाएगा ! और फिर मोदी जी और शाह जी उन्हें शाबाश भी दे देंगे !और फिर गावों की ओर भी रुख किया जायेगा !
          लेकिन मेरा …