Posts

Showing posts from September, 2013

" desh ki sabhi sanvidhanik santhaaon ke " sencer " fail !! " teri maa ki"..!! " teri bahanko"....!! ke geet bajme lage ..!!!! kyon ??? aa gayaa naa mazaa ????

Image
desh ke sabhi " senstive " mitron ko mera saadar prnaam !! aaj kaa main ye lekh " roman english main likh raha hoon . kyonki hamare bachche ye naa padh paayen . is bhashaa ko foji bhaaiyon ki english bhi kahaa jaataa hai . kyaa kahaa , bachche is bhashaa ko bhi padhna jaante hain !! chalo koi baat nahi . unko bhi jaanne kaa adhikaar hai , ki bharat sarkaar ke sabhi sanvedhanik sansthaan apni yogyta kho chuke hain . unka ye haal kisi or ne nahi balki unhi ke mantriyon ne hi kiyaa hai . taaki mantriyon ke ghaple pakde hi naa jaa saken .
                       kal t.v. par ek film kaa promo dikhaya jaa rahaa thaa jisme ek geet ki pahi pankti sun kar hi main aise chonkaa ki poocho mat ji , hero ji kah rahe the " teri maa ki ......, teri bahan ko .......!! shaam hote hote ye maamla sencer bord ki adhyaksha talak panhuch gyaa . usne apne haath khade kar diye or bolin ki main kyaa karun akeli bechaari baaki sencer-board ke sabhi sdsya jab use paas kar de to !! wo saare anp…

" इक तारा बोले , तुन-तुन , क्या कहे ये हमसे सुन- सुन "..........????

Image
" तुनक-तुनक " कर बोलने वाले सभी मित्रों को मेरा हार्दिक प्रणाम !!
                       हमारे भारत में कई तरह की सभ्यताएँ बसती हैं !! सब अपने आपको श्रेष्ठ बताते हैं !! सबको अपना इतिहास , खान-पान , रहन-सहन और जीवन का ढंग इतना बढ़िया लगता है की पूछो मत जी , सब अपने मुंह मियाँ-मिठ्ठु बनते नहीं थकते , और साथ-साथ ये भी चाहते हैं की दुसरे भी उन जैसे ही बन जाएँ !!
                              यही हाल आजकल सभी राजनितिक दलों का भी हो गया है !! सब अपनी प्रशंसा करने में ही लगे हुए हैं !! जनता से कोई नहीं पूछ रहा की उसे कौन " भा " रहा है !! उसे तो बस एक हाथ से  आश्वासनों की थालियाँ परोसी जा रही हैं !! तो दुसरे हाथ से मतदाता के हाथ से " विकल्प " छीने जा रहे हैं !!
                               ज़माना कहता था कि भगवान् की मर्ज़ी के बिना पत्ता भी नहीं हिल सकता , लेकिन आज लगता है जैसे " नेताओं " की मर्ज़ी के बिना कोई समाजसेवी भी नहीं बन सकता !! " नक्रात्मकता " ज़हन में घर करती जा रही है !! सकारात्मकता आ ही नहीं पा रही इस जीवन में , लाख कोशिशों के बावज…

" मीडिया बताये , दोषी कौन " !! क्रिया - प्रतिक्रया या सरकार ???

Image
सभी बुद्धिजीवियों को मेरा सादर नमन श्रद्धा के साथ !!
                   श्राद्ध - पक्ष नजदीक आ रहे हैं इसलिए श्रद्धा के साथ अभिवादन किया है , कृपया अन्यथा ही लेवें !! क्योंकि आजकल न्याय टीवी चेनलों पर होने वाली बहस में होता है !! सर्टिफिकेट भी सब प्रकार के वंहा बंटते हैं !! जब सब कुछ उलट-पुलट हो गया है तो अभिवादन में भी गड़बड़ी होना स्वभाविक है ना !!
                     आजतक चेनेल पर मेरे मित्र दीपक शर्मा जी और प्रसुन्न कुमार वाजपेयी जी ने उत्तर प्रदेश के दंगों पर एक स्टिंग ओपरेशन किया पार्ट वन और पार्ट टू !! जिसे देखकर अलग-अलग प्रतिक्रियाएं आना स्वभाविक था , सो आयीं भी !! लेकिन दीपक जी को भारी दुःख पंहुचा कि लोग उनकी बातों पर विश्वास क्यों नहीं कर पा रहे , जबकि उन्होंने इतनी मेहनत से ये काम किया !! इस हेतु उन्होंने फेसबुक पर ये पोस्ट डाली और सब मित्रों से पूछा की आपके क्या विचार हैं !!
                               तो मित्रो मेरा तो ये मानना है की टीवी चेनलों ने कुछ ज्यादा ही देश का भार अपने ऊपर उठा रख्खा है !! या उन्हें कोई गधे की तरह प्रयोग  कर रहा है !! चाहे वो उनका चेनेल मालिक हो …

मेरे नए प्रिय मित्र , अशोक मिश्र जी का लिखा एक बढ़िया राजनीती पर व्यंग , आप भी पढ़िए !!

Image
                                                 राजनीतिक पलटास   -अशोक मिश्र पिछले कुछ महीने से काफी ऊहापोह में था। आखिर एक दिन दिल को कड़ा करके दिल्ली के आलीशान होटल में राजनीतिक पलटासन शिविर का आयोजन कर ही डाला। इसके लिए सबसे पहले कांग्रेस, भाजपा, बसपा, सपा और आप से लेकर ‘बाप’ तक के सुप्रीमो को पत्र लिखकर उनसे अपने नौसिखिया नेताओं को शिविर में भेजने का आग्रह किया। सबने इस पत्र को गंभीरता से लेते हुए अपने भावी नेताओं को शिविर में भेजने का आश्वासन दिया। कुछ क्षेत्रीय पार्टियों के अध्यक्षों ने शिविर की सफलता की कामना करते हुए संदेश भी भेजा। शिविर में भाग लेने की फीस बस मामूली रखी गई थी, पच्चीस हजार रुपये प्रति व्यक्ति। शिविर में लगभग दस हजार नवांकुर नेताओं और नेत्रियों ने भाग लिया। राजनीतिक पलटासन सिखाने आए विश्व प्रसिद्ध पाकेटमार उस्ताद गुनाहगार। शिविर का उद्घाटन करते हुए उस्ताद गुनाहगार ने कहा, ‘आप लोग जिस पार्टी के कार्यकर्ता हैं, नेता हैं, वे सभी पार्टियां चोर हैं, अपनी मां की बहन के बेटे के भाई हैं। अगर साफ-साफ शब्दों में कहूं, तो सारे के सारे कसाई हैं। देश की सभी पार्टियां उचक्क…

" अबे , कैसी सरकार चला रहे हो दुष्टो !! न हम ब्याज़ खा पा रहें हैं और ना ही प्याज़ !! कितने दिन और बचें हैं तुम्हारे , ससुर के नातियो !! ? ? ?

Image
आज मैं बहुत गुस्से में हूँ मित्रो !! मुझे पकड़ लो आप ! नहीं तो आज कोई सरकारी आदमी मेरे गुस्से की भेंट चढ़ जाएगा , कहे देता हूँ मैं !! मैं एक शांत स्वभाव का अदना सा लेखक था , ये नेता लोग समाजसेवा का झांसा देकर मुझे राजनीती में ले आये ! फिर जो मुझे " राजनीती के करतब " दिखाए हैं स्थानीय, प्रादेशिक और केंद्रीय नेताओं ने कि पूछिए मत !! कभी चोर राजनीती में हमसे ऊपर आ जाता है , कभी डाकू और कभी कपटी लोग सारे पद पा जाते हैं !! हम ससुरे अपने नंबर आने की प्रतीक्षा ही कर रहे हैं पिछले 35 वर्षों से !! हद्द ये हो गयी कि वो मज़ाक भी हमारा ही उड़ाते नज़र आते हैं !!
                         ऊपर से हमारी ये प्रादेशिक और केंद्रीय सरकारें इनको चलाना नहीं आता एक डिपार्टमेंट का दफ्तर और बने फिरते हैं मंत्री.......!! अर्थशास्त्र का डाक्टर अर्थ नीति में फेल , कृषि मन्त्री , फसलों के भाव तक स्थिर रखने में जब फेल हो रहा हो तो विदेशमंत्री , गृह मंत्री , वित्त मंत्री और रक्षा मंत्री कैसे पास हो सकते हैं ????? ऊपर से ससुरे ढोल पीट - पीट कर अपने बखान और कर रहे हैं !! 


                        वो हमारी शीला …
Image
" अंडर - ग्राउंड " मिडिया ...........!!!!!

देश का मीडिया अब भट़ट-भडन्त (चारणगीरी) की दशा से काफी-कुछ उबर चुका है और जनता को जगाने का अच्छा कार्य कर रहा है, किन्तु विडंबना यह है कि प्रिंट मीडिया और इलेक्ट़्रानिक मीडिया दोनो में पूंजीपति वर्ग हावी है, जिससे क्रान्तिकारी लेख या समाचार दबाकर, उन बातों को प्रमुखता से प्रसारित किया जाता है, जिनमें उनका स्वयं का हित सन्निहित होता है। मीडिया लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ कहा गया है, किन्तु उसका कितना भाग बिकाउ हो चुका है, यह किसी से छिपा नहीं है। एक पेज का समाचार क्या देते हैं, डेढ पेज का विज्ञापन लगा देते हैं। खबरे उनकी ज्यादा छापते हैं, जिनसे भारी मात्रा में विज्ञापन मिलते हैं। यही हाल टी० वी० चैनेलों में भी है, दस मिनट कोई समाचार या मूवी देते हैं, तो बदले में उतना ही समय विज्ञापन में ले लेते हैं। पेड न्यूज और ब्लैकमेलिंग की भारी समस्या मीडिया में बहुत पहले से बनी हुई है। ऐसे में मीडिया से कोई बडी उम्मीद नहीं की जा सकती है और न ही जनता कभी इसके भरोसे कोई आन्दोलन खडा कर पाई है। यह वही मीडिया है जिसने गैलीलियो द्वारा दूरबीन बनाकर प्रमाणिक …

" अब भाजपा के सभी नेता , " कार्यकर्ता " बन कर अपनी-अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करें , अन्यथा पार्टी फेल हो जायेगी " .......! ! !

Image
मेरे प्रिय भाजपा और संघ के 56 संगठनों के मित्रो , सादर नमस्कार !! कृपया सहर्ष स्वीकारें !!
                         भारत की जनता सभी पार्टियों के दोगलेपन , भ्रष्टाचार , तुष्टिकरण की नीतियों , भारत की गिरती साख और लुञ्ज-पुञ्ज योजनाओं और नीतियों से तंग आ चुकी थी ! पहले श्री जय प्रकाश जी के समाजवाद , फिर अटल-आड्वानी जी के हिंदुत्व प्रेम पर विश्वास करके धोखा खा चुकी थी ! आज तो वो निराशा की स्थिति को महसूस कर रही थी क्योंकि अन्ना , केजरीवाल और रामदेव जी के आन्दोलन पापियों के आगे फेल हो चुके थे !! भारत की जनता को एक कठोर , दृढ निश्चयी , देश-भक्त और विवेकवान नेता चाहिए था , जो उसे नरेंद्र मोदी में दिखाई दिया , संघ और भाजपा ने जनता की इस मांग को समझा और जाना , तो संघ के प्रयास से भाजपा ने उन्हें अपना प्रधानमंत्री घोषित कर दिया !!
                        अब भाजपा के सभी राष्ट्रीय , प्रादेशिक , प्रत्येक जिलों और मंडल स्तर के नेताओं से मेरी करबद्ध प्रार्थना है की वो चुनाव तक नेता से " कार्यकर्ता " बन जाएँ !! सभी स्वयं सेवक और कार्यकर्ता अपनी वाणी और आचरण को मधुर बना लें !
जनता के साथ एक ब…

" 40 वर्षों से प्रताड़ित " हिन्दु " को आज मिलेगा मोदी का सहारा , अल्पसंख्यक भी पाएंगे न्याय व अपने मौलिक अधिकार " ! ! !

Image
मेरे प्रिय मित्रो,सौमित्रो, कुमित्रो और अमित्रो !! सादर नमस्कार !! कृपया स्वीकार करें !!
                   आज सायं 5 बजे भाजपा संसदीय बोर्ड बहुमत से या सर्व सहमती से माननीय नरेन्द्र मोदी जी को अपना भावी प्रधानमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित कर देगी !!
                   कांग्रेस की तरह नहीं कि संसदीय दल अपने समस्त अधिकार " हाई-कमाण्ड " को सौंप देगी ! और फिर सोनिया जी निर्धारित करेंगी कि कौन बढ़िया " कठपुतली " साबित होगा !! बाकी राजनितिक दलों के तो स्वयं-भू नेता हैं ही !!
                  जब देश आज़ाद हुआ तो सभी अल्प-संख्यकों , राजाओं और महा राजाओं से पूछा गया कि बतैयी आपकी क्या राय है ?? तो मुसलामानों ने कहा कि हमें " पाकिस्तान " चाहिए !!दुसरे सब भारत में शामिल हो गये !! काश्मीर का मसला मध्य में अटका रह गया कुछ ख़ास अधिकारों के साथ !!  पकिस्तान को उसकी ज़मीन के साथ साथ बहुत सारा धन भी दिया गया और सीमाएं भी तय कर दीं गयीं !! तभी से हम हिन्दुस्तानी कहलाने लगे !! 


                  कुछ मुसलमान ( जो भय की वजह से धर्म परिवर्तन कर हिन्दू से मुसलमान बने थे ) भारत में…

सोनिया गांधी, आखिर हैं कौन ???????? ( साभार ) !!

Image
ये लेख सबकी खबर डॉट कॉम से लिया गया है.जब इंटरनेट और ब्लॉग की दुनिया में आया तो सोनिया गाँधी के बारे में काफ़ी कुछ पढने को मिला । पहले तो मैंने भी इस पर विश्वास नहीं किया और इसे मात्र बकवास सोच कर खारिज कर दिया, लेकिन एक-दो नहीं कई साईटों पर कई लेखकों ने सोनिया के बारे में काफ़ी कुछ लिखा है जो कि अभी तक प्रिंट मीडिया में नहीं आया है (और भारत में इंटरनेट कितने और किस प्रकार के लोग उपयोग करते हैं, यह बताने की आवश्यकता नहीं है) । यह तमाम सामग्री हिन्दी में और विशेषकर "यूनिकोड" में भी पाठकों को सुलभ होनी चाहिये, यही सोचकर मैंने "नेहरू-गाँधी राजवंश" नामक पोस्ट लिखी थी जिस पर मुझे मिलीजुली प्रतिक्रिया मिली, कुछ ने इसकी तारीफ़ की, कुछ तटस्थ बने रहे और कुछ ने व्यक्तिगत मेल भेजकर गालियाँ भी दीं (मुंडे-मुंडे मतिर्भिन्नाः) । यह तो स्वाभाविक ही था, लेकिन सबसे आश्चर्यजनक बात यह रही कि कुछ विद्वानों ने मेरे लिखने को ही चुनौती दे डाली और अंग्रेजी से हिन्दी या मराठी से हिन्दी के अनुवाद को एक गैर-लेखकीय कर्म और "नॉन-क्रियेटिव" करार दिया । बहरहाल, कम से कम मैं तो अनुवाद को…

" मेरे परम मित्र - पुण्य प्रसुन वाजपेयी जी का एक अहम् लेख आपसे बाँट रहा हूँ जी अवश्य पढ़िए और अपने अनमोल विचारों से हमें अवश्य अवगत करवाएं " ! !!

Image
पुण्य प्रसून बाजपेयी
रामलीला मैदान से मोदी का ऐलान संघ का सपना Posted: 09 Sep 2013 10:04 AM PDT
पहली बार रामलीला मैदान से एक नये इतिहास को रचने की कवायद चल रही है, जिस पर निर्णय तो बीजेपी को लेना है लेकिन कवायद संघ परिवार कर रहा है। यह कवायद नरेन्द्र मोदी को लेकर है। प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर मोदी के नाम का ऐलान अगर बीजेपी की एकजुटता और जनता की शिरकत के साथ रामलीला मैदान में रैली के साथ हो तो फिर चुनाव के मोड में समूचा देश भी आ जायेगा और बीजेपी के साथ साथ संघ परिवार भी चुनावी शिरकत शुरु कर देगा। संघ की मोदी को लेकर जो बिसात है उसके मुताबिक संसदीय बोर्ड में मोदी पर सर्वसम्मती से ठप्पा लगे।

यानी कोई नेता रुठा हुआ ना लगे। खास तौर से आडवाणी, सुषमा, मुरली मनोहर जोशी और अनंत कुमार खुले दिल से मोदी के साथ जुड़ें। और चुंकि इसके तुरंत बाद मोदी पूरी तरह से चुनावी कमान संभालेंगे तो उन्हें देश के लीडर के तौर पर रखने के लिये रामलीला मैदान में सबसे बडी और भव्य रैली हो। जिसमें खुले तौर पर मोदी के नाम का प्रस्ताव लालकृष्ण आडवाणी रखे। और सेकेंड सुषमा स्वराज करें। और फिर वह तमाम नेता मोदी के…

" भाजपा संगठन द्वारा, तीन साल पहले विभिन्न पदों पर थोपे गये कई मौज़ूदा गद्दार पदाधिकारी पार्टी को गहरे गड्ढे में गिराने की पूरी तैयारी में हैं " ?????

Image
भाजपा के निष्ठावान सभी कार्यकर्ताओं को मेरा हार्दिक नमस्कार !!
                        आज से 5 साल पहले श्री प्रकाश चन्द्र नाम के राजस्थान भाजपा के संगठन मंत्री हुआ करते थे !! पता नहीं किस कारन से उन्होंने पहले तो डा . महेश शर्मा जी का विरोध करवाया , फिर श्री ओम प्रकाश माथुर जी का और फिर श्री मति वसुंधरा राजे सिंधिया जी को पिछले चुनावों में भितरघात करके हरवाया !! हमने शिकायतें भेजीं तो उन्हें हटाया गया !! लेकिन कंही हम अकड़ में ना आ जाएँ हमें कोई पद ना देकर श्री गंगानगर जिले में सरदार महेन्द्र सिंह सोढ़ी जी को जिलाध्यक्ष बना दिया गया ! जिले के सभी मंडलों में संगठन के नाम पर ऐसे लोगों की नियुक्तियाँ हुई की पूछो मत , जिन्होंने पिछले चुनावों में पार्टी की खिलाफत की थी उन्हें ही इनाम स्वरूप पद दिए गये , और आज तलक दिए जा रहे हैं !!
                         पिछले जिलाध्यक्ष के चुनावों में , श्री निहाल चन्द , श्री लाल चन्द , सरदार सुरेन्द्रपाल सिंह टीटी , श्री ओपी महेन्द्रा और श्री भागीरथ बिश्नोई जी पर तरह - तरह के आरोप लगाकर चोर साबित करने की कोशिश की गयी थी !! और एक तरह से हम सबको राजनीति से…