Posts

Showing posts from December, 2011

" बस अन्ना जी , इतने भरोसे लायक भी नहीं है , ये जनता "....?? ?

Image
मेरे प्रिय भरोसे मंद मित्रो , भावपूरण नमस्कार स्वीकार करें !! " जनता " के लिए आज तलक न जाने कितने समाजसेवी , नेता अपना समय , धन और जान तक गवा बैठे हैं , इस नामुराद जनता को याद नहीं है , कितने संत इस जनता को सुधारने हेतु अपना तन , मन , और धन , ज्ञान देने और लेने में लगा चुके हैं , इस " बेबस " जनता को वो भी याद नहीं , इस " निर्दयी " जनता के सामने कितने अन्याय हुए ,और ये चुप - चाप देखती और सहती रही , वो भी इसे याद नहीं ???? हमारा इतिहास साक्षी है की ये जनता कितनी " भुलक्कड़ " है ??? ये भी किसी से छिपा नहीं है ???? अन्ना जी , आपने 3.- 4.बार आन्दोलन करके देख लिए , सरकारी और गैर सरकारी नेताओं का हाल भी आपने देख लिया ??? समझ दार लोग सब समझ चुके हैं की किसके लिए क्या फायदे मंद बात है ??? और क्या नहीं ?? तो अब आपका दोबारा अनशन पर बैठना कटाई उचित नहीं है !! क्योंकि यही वो जनता है जो चोर नेताओं को " वोट " डालकर जीताती है !! दारू पीकर अपना वोट " बेच " आती है !! या अपनी जाती धर्म और इलाके के पीछे भाग पड़ती है ???? तो क्यों इस " नीरीह…

" आज , ओरत व मर्द के - -" बीच "- - कैसे सम्बन्ध होने चाहिए " ? ??

Image
सभी व्यस्क मित्रों को प्यार भरा नमस्कार !! मुझे फेस - बुक पर कार्य करते हुए लगभग एक वर्ष होने को है | मुझे कम्पूटर चलाना भी कम आता है | कुछ समय पहले तो आता ही नहीं था | तब तलक मेरी कोई महिला मित्र नहीं थी , सिवाय मेरी पत्नी के , कसम से !! बचपन में को - एजुकेशन मैं पढ़े तो उस समय सह पाठी लडकियां अवश्य होती थी | लेकिन  उस समय आज जैसी फ्रेंडशिप नहीं होती थी !! फेस - बुक पर आने के बाद , अपने ब्लॉग " ५थ पिलर करप्शन किलर " मैं ज्वलंत विषयों पर लिखने के बाद मेरी कई महिला मित्र बन गयी हैं || जिनसे समय - समय पर कई विषयों पर बात होती रहती है | आज मेरी एक महिला मित्र    "निशा सहारण " जी ने एक प्रश्न पूछ लिया के " आप मर्द और ओरत के संबंधों के बारे मैं क्या सोचते हैं ? कैसे सम्बन्ध होने चाहिए ? आदि आदि || तो मैंने उनसे कहा की आज इसी विषय पर मैं अपने विचार लिखता हूँ , और आप भी पढ़ कर उस पर अपने विचार लिखना !! ऐसा अभी उनके साथ तय हुआ है और पाठको आपसे भी अनुरोध है की आप भी इस विषय पर अपने विचार अवश्य मेरे ब्लॉग पर जा कर लिखें !! अग्रिम धन्यवाद स्वीकार करें !! मर्द और ओरत दो अ…

केंद्र सरकार , मानने को तैयार नहीं , की वो जनता की सेवक है ....???

Image
सभी मित्रों  को प्यारी जिद्द भरा नमस्कार !! जिद्द भी कई तरह की होती है !! बच्चे की जिद , जो अच्छी लगती है ?? पत्नी या प्रेमिका की जिद , जो प्यारी लगती है ?? दोस्त की जिद्द , जिसपे कुर्बान जाने को दिल करता है ??लेकिन आज कल हमारे नेता गन भी जिद्द करने लग गये हैं !! की हम जीत  कर आये हैं , इसलिए जो हम करेंगे , वोही उचित होगा , बाकी अगर किसी को अपनी बात मनवानी है तो वो पहले लोक सभा का चुनाव जीत कर आये फिर हमें कुछ कहे , अन्यथा नहीं ?? u.p.a. की नेता श्री मति सोनिया गाँधी जी ने बड़े दिनों बाद अपना श्री मुख खोला है !!! वो बोली हैं की सरकार लोकपाल को लेकर अब लम्बी लड़ाई लड़ने को तैयार है ?? कोई पूछे भला किस् से ?? वो कहती हैं की अब जो बिल सरकार ने बनाया है वो फ़ाइनल है ....अन्ना या विपक्ष अब कुछ न बोले ...!!  केंद्र सरकार , मानने को तैयार नहीं , की वो जनता की सेवक है ....??? उन्हों ने जनता या अन्ना जी का नाम तो नहीं लिया लेकिन b.j.p. और विपक्ष का नाम ले कर ये कहा की ये अपनी हार स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं !!सोनिया जी ने अपनी सरकार द्वारा पेश किये गए बिल की तारीफ में स्वयं ही पुल बाँध दिए हैं …

मैं होता पी . एम् . , तो एक " डालर " के देता , " 2./- "......? ? ?

Image
स्वाभिमानी मित्रो , प्यार भरा " रोकड़ी " नमस्कार !!पिछले कई दिनों से समाचार पढ़ रहा हूँ की रुपया गिर गया , रुपया गिर गया !! पता नहीं कन्हा गिर गया ये समझ में नहीं आ रहा था !! एक दिन मैंने अपने मित्रों से पपच ही लिया , यारो कोई तो मुझे बताओ आखिर ये रुपया कब - कब गिरता है ?? कन्हा  गिरता है ? क्यों गिरता है ???कैसे गिरता है ???और डॉलर ससुरा 1967. से ही चढ़ता ही जा रहा है क्यों ????? मेरे मित्र बोले, अबे मास्टर रुक जा प्रश्न पे प्रश्न किये जा रहा है? जिस सरकार के पास जितना सोना होता है उतने ही नोट छपने का अधिकार उसके पास होता है ... उनके आगे बोलने से पहले ही मैं आगे बोला , रहने दो रहने दो , सोना तो हमारे पास उतना ही है जितना कल था , फिर रोज़ कैसे रुपया गिरता है ?? जरूर इसमें कोई विदेशी साजिश है ??? मित्र हंसने लगे , बोले जा यार तू तो बिलकुल भोला है , मैं बोला , भाइयो मैं तो एक बात जानता हूँ की मेरा रुपया है तो मेरी मर्ज़ी चलेगी या किसी विदेशी की , मैं ससुरे डॉलर की कीमत दो रूपये ही लगाता अगर मैं प्रधान मंत्री होता तो सब के लिए ये ऑर्डर पास कर देता की डॉलर के 2./- रूपये से ज्याद…

" मान जाइये ......! मान जाइये....., बात मेरे दिल की जान जाइये " ! ! !!

Image
रूठे हुए मित्रो , म्नुवल भरा नमस्कार स्वीकार हो !!! क्योंकि हमारी सर्कार भी धीरे - धीरे अब मान रही है !! सिटिजन चार्टर , विसल ब्लोवर , और न्यायिक व्यवस्था वाले बिल सदन में आ भी गए और पास भी हो गए !! अब कुछ हेर फेर के साथ " लोक - पाल " जैसा बिल भी पास हो जायेगा , क्योंकि सरकार अब विशेष सत्र बुलाने की बात भी कर रही है ||  अब प्रयास श्रेय लेने का हो रहा है , विपक्ष , n.g.o. और सरकार सब जोर - शोर से इसी प्रयास में लगे हैं || जनता को फिर सारे भूल जायेंगे ?? अपने अपने ढोल पीटने में ये सब लग जायेंगे ??? लेकिन जनता को अपने " घाव " हरे रखने होंगे ?? उसे तो अपने अंदर एक ज्वाला तब तक जलाए रखनी है जब तलक चुनाव नहीं आते केंद्र के ??? तब हमें सिर्फ उन लोगों को संसद में भेजना है जो वंहा जाने के बाद जनता को और जनता की समस्याओं को याद रखें , न की ऐसे लोगों को जिन्हें जनता की समस्याएँ " याद " करानी पड़ें ?????हमने  ऐसे लोगों को भी वोट नहीं देना जो हमें जातियों में बाँट रहे हैं , हमने ऐसे लोगों को भी वोट नहीं देना जो हमें किसी प्रकार का लालच देवे , न ही उनको वोट देना है जो …

' न जाने, किस वेश में , भारत का " दुश्मन " आ जाये ? ? ?

Image
सच्चे देश - भक्त मित्रो , वन्दे - मातरम् !! और प्यार भरा नमस्कार स्वीकार करें !! अन्ना जी फिर वापिस आ गए हैं ! सरकार उन्हें स्वीकार नहीं कर पा रही , और न ही जनता उन्हें अब तलक पूरा समझ पायी है ?? बुद्धिजीवी लोग अलग - अलग राय रखते हैं !! मैंने भी कई मित्रों के विचार अन्ना जी और उनकी टीम के साथ मेल नहीं खाते देखे हैं ! कोई उन्हें कांग्रेस का एजेंट बता रहा है तो कोई उन्हें r.s.s. का ?? कोई कहता है उनकी टीम में निम्न जाती के लोग नहीं इसलिए ये आन्दोलन सही नहीं तो कोई पूछता है की उनके पीछे कौन है ???? ये मन भी बड़ी विचित्र चीज़ है ?? कभी इधर तो कभी उधर , थाली के बैंगन की तरह कभी एक जगह टिकता ही नहीं ?????? इसलिए कल से मैं गहन सोच में डूबा हुआ हूँ ?? की इस देश का दुश्मन कौन और किस रूप में आ जाये ?? हम कुछ भी नहीं जानते ??? मैंने जो सोचना शुरू किया तो अजीब अजीब विचार मन में आने लगे /// आप भी पढ़िए ... पहला विचार ये आया की भारत का दुश्मन भारतीय नारियों को बिगाड़ने हेतु ऊटपटांग सीरियल और फिल्मे बनाकर tv. पर फ्री दिखा रहा है ??? और मज़े की बात ये है की सारा फिल्म और add. उद्योग उनकी मदद कर रहा ह…

" जिसका - भय था.......वोही - बात हो गयी "....? ? ?

Image
मर्यादा में रहने वाले समझदार मित्रो , नमस्कार !! ग्यानी जन बड़े दिनों से सोच रहे थे , कईयों ने तो फेसबुक पर लिख भी दिया था की अश्लील चित्र और भद्दी भाषा का उपयोग उचित नहीं है परन्तु एक बड़ी गिनती वाले लोग भावना मैं बह कर अनाप - शनाप लिखते भी रहते थे और दिखाते भी रहते थे | मैंने स्वयं भी एक या दो बार कड़े शब्दों का और कुछ ऐसे चित्रों का उपयोग किया जो सभ्य नहीं कहे जा सकते , लेकिन मैंने स्वयं उन चित्रों को नहीं बनाया, फिर भी अगले दिन मैंने सब मित्रों से माफ़ी मांगी !!सरकार या किसी नेता के किसी निर्णय या उसके किसी काम पर किसी को आपत्ति है तो उसे सभ्य शब्दों मैं भी जाहिर किया जा सकता है !! लेकिन  जब कोई हद पार कर जाए तो सख्त शब्द तो जायज़ हैं लेकिन अभद्र फिर भी जायज़ नहीं ?? कई लोग तो किसी चित्र पर बाबा राम देव , सोनिया , राहुल गाँधी , कपिल सिब्बल , आदि जैसे व्यक्तियों के चेहरे लगा देते थे लीन्हे देख कर हंसी भी आती थी और बुरा भी लगता था ??? लेकिन सवाल ये भी पैदा होता है की क्यों किसी को जरूरत पड़ी ऐसे शब्द बोलने की ??? या ऐसे घटिया स्तर  के चित्र बनाने की ???? इसका जवाब भी तो ये उपरोक्त ल…

" किसको भाते हैं - " ईमानदार , सच्चे और कर्तव्यनिष्ठ - आदमी ".???

Image
सच्चाई और ईमानदारी की कदर करने वाले , प्यारे मित्रो , प्यारा सा नमस्कार स्वीकार करें !!!!! आजकल हिन्दुस्तान में बहुत शोर मचाया जा रहा है की भ्रष्टाचार मिटाओ , काला  धन वापिस लाओ और नेताओ ,       करमचारियों समय बध्ध कार्य करो आदि आदि .....?? बड़े बड़े आंकड़े भी बताये - गिनाये जा रहे हैं ||  जैसे 120,करोड़ जनता ये चाहती है ?????, s.c. जातियों वालों को ज्यादा दण्डित  किया जायेगा ?? अन्ना के पीछे कौन ??? मनमोहन सिंह जी के पीछे कौन ,??? मिडिया के पीछे कौन ??? लोक - पाल का आन्दोलन सारी  जातियों को साथ लेकर ही कामयाब हो सकता है ...????जैसे कई सवाल देश मैं गूँज रहे हैं !! इसके साथ साथ ये भी कहा जा रहा है की n.g.o. और मिडिया को भी लोकपाल में शामिल करो !! अन्ना जी ये भी कह रहे हैं की चुनावों के वक्त हम जनता के बीच में जायेंगे और इमानदार सच्चे और कर्तव्यनिष्ठ आदमी को जितने हेतु कहेंगे .....???? परन्तु मेरा ये पूछना है की इस कलयुग में किसको भाता है ....इमानदार , सच्चा और कर्तव्यनिष्ठ आदमी ???? आज के इस जमाने में जी हजूरी ,चमचागिरी और वाक्पटुता के धनियों की ही आवश्यकता रहती है ...??? नेता - ठेकेदा…